Spiritual Camp 2016-17
भारतीय संस्कृति एवं अध्यात्मिक पर आधारित चार दिवसीय आवासीय शिविर
संयोजक - श्रीमती स्निग्धा दत्ता
सह-संयोजक - डाॅ. शम्पा मल्होत्रा

वर्तमान युग की छात्राओं के व्यक्तित्व विकास के लिए भारतीय संस्कृति का संरक्षण एवं संवर्धन, अति आवष्यक है। इसी उद्देष्य से प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी चार दिवसीय भारतीय संस्कृति एवं अध्यात्म पर आधारित निःषुल्क आवासीय शिविर का आयोजन महाविद्यालय परिसर में दिनांक 20.10.2016 से 23.10.2016 तक किया गया। इस शिविर में 179 छात्राओं एवं लगभग 100 प्राध्यापकगण एवं कर्मचारियों ने भागीदारी की।
 
उद्घाटन समारोह - 
समारोह का उद्घाटन दिनांक 20.10.2016 को मुख्य अतिथि श्री जयभान सिंह पवैया उच्च षिक्षा मंत्री, लोक सेवा प्रबंधन, जन षिकायत निवारण म.प्र. शासन द्वारा द्वीप प्रज्जवलित कर एवं छात्राओं द्वारा वेदोच्चारण से हुआ। महाविद्यालय की प्राचार्य डाॅ. सुधा पाठक द्वारा स्वागत भाषण प्रस्तुत किया गया ।
शिविर संयोजक श्रीमती स्निग्धा दत्ता, विभागाध्यक्ष गणित ने अध्यात्मिक शिविर की रूपरेखा प्रस्तुत की।
उद्घाटन सत्र के विषेष अतिथि थे राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष, डाॅ. हितेष बाजपेयी। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय शासी परिषद् की अध्यक्ष डाॅ. मीना पिंपलापुरे ने की।
मुख्य अतिथि श्री जयभान सिंह पवैया जी ने उद्बोधन में कहा कि अध्यात्म, आत्मा परमात्मा से जुड़ना है। आत्मविष्वास की पूंजी को बढ़ाकर, उच्च षिक्षा प्राप्त कर भारतमाता के ऋण को चुकाने का आव्हान उन्होंने किया।
अध्यक्ष डाॅ. मीना पिंपलापुरेजी ने भारत की संस्कृति का प्रचार-प्रसार एवं षिक्षा का समन्वय इस शिविर का उद्देष्य है यह बताया।
विषेष अतिथि डाॅ. हितेष बाजपेयीजी ने अपने अंतर्दृष्टि को विकसित कर एवं दृष्टि को बदलकर सकारात्मक सोच रखने की सीख दी।
चार दिवसीय शिविर के 9 सत्र में मध्यप्रदेष के विभिन्न शहरों से 16 वक्ताओं ने अध्यात्म एवं भारतीय संस्कृति पर अपने वक्तव्य प्रस्तुत किये। वक्ताओं एवं उनके द्वारा दिये गये वक्तव्य के विषय निम्नानुसार है
वक्ता विषय
श्री रितुराज जी महाराज श्रीमद् भगवद्
स्वामी राघवानंदजी, आचार्य चिन्मय मिषन, भोपाल श्रीमद् भागवत गीता
डाॅ. मीना पिंपलापुरे, अध्यक्ष शासी परिषद् सनातन धर्म
डाॅ. उषा नायर, प्राध्यापक रसायन शास्त्र एम. वी. एम. महाविद्यालय मेरा जीवन मेरा संदेष
श्री ज्ञानवर्धन पाठक, सेवानिवृत्त प्राध्यापक राजनीति शास्त्र श्री सत्य साई महाविद्यालय की छात्राएँ, साई मिषन की दूत
श्री नवीन अवस्थी, डीएसपी लोकायुक्त, भोपाल मानव सेवा ही माधव सेवा
डाॅ. चरनजीत कौर, प्राचार्य संत हिरदाराम, भोपाल सिक्ख धर्म के परिपेक्ष्य में महिला सषक्तिकरण
श्री चंद्रषेखर तापी, हिन्दी अधिकारी एलआईसी अध्यात्म के माध्यम से सफलता
श्री विरेन्द्र कुमार जैन, सेवानिवृत्त एजीएम बीएचईएल, भोपाल आधुनिक जीवन में जैन धर्म की प्रासंगिकतााल
डाॅ. बिनय राजाराम, सेवानिवृत्त प्राध्यापक हिन्दी हिन्दूधर्म एवं अवतारवाद
श्री एम.पी. परांजपे, सलाहकार सत्य साई विद्या विहार स्कूल, इन्दौर भारतीय संस्कृति एवं अध्यात्म
श्री एस.के. सचदेवा, सदस्य, महाविद्यालय शासी परिषद् श्री भगवान बाबा एवं उनके संस्मरण
श्री त्रिभुवन सचदेवा क्षेत्रीय प्रांताध्यक्ष, इन्दौर दैनिक जीवन में अध्यात्म
श्रीमती अनु सचदेवा, बाल विकास गुरू, इन्दौर आदिगुरू शंकराचार्य
श्रीमती अनीता अवस्थी, सहायक प्राध्यापक बी.एड. ज्योति ध्यान
श्रीमती सरिता कुषवाहा, क्रीडा अधिकारी योगाभ्यास

समापन समारोह - 
शिविर का समापन समारोह दिनांक 22.10.2016 को मुख्य अतिथि डाॅ. वन्दना अग्निहोत्री, प्राचार्य शासकीय सरोजिनी नायडू कन्या महाविद्यालयय, भोपाल किया गया एवं अध्यक्षता श्री एम.पी. परांजपे, निदेषक श्री सत्य साई विद्या विहार विद्यालय, इन्दौर द्वारा किया गया।
शिविर संयोजक श्रीमती स्निग्धा दत्ता द्वारा शिविर रपट प्रस्तुत की गई एवं सह-संयोजक डाॅ. शम्पा मल्होत्रा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। प्राचार्य, समस्त वक्ताओं, प्राध्यापकगणों एवं छात्राओं के सहयोग से शिविर सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।